May 23, 2024

दादा के नाम पर सड़क, नाना ब्रिगेडियर, चाचा उपराष्ट्रपति... खुद भी कम पढ़ा-लिखा नहीं था मुख्तार अंसारी!

March 31, 2024
1Min Read
394 Views

मुख्तार अंसारी नाम के साथ भले ही इतिहास के पन्नों में माफिया, डॉन और गैंगस्टर लिखा जाएगा, लेकिन उनके परिवार का नाम हमेशा इतिहास के पन्नों में अदब से लिखा रहेगा। उनके परिवार से राज्यपाल और देश के उपराष्ट्रपति रहे हैं।

गाजीपुर जिले में ही नहीं बल्कि पूर्वांचल के कई जिलों में मुख्तार अंसारी के परिवार का सम्मान है।

Mukhtar Ansari: पूर्वांचल के कुख्यात अपराधी और माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की गुरुवार को बांदा जेल में मौत हो गई। पांच बार विधायक रहे पूर्वांचल के डॉन मुख्तार अंसारी पर भले ही दर्जनों मुकदमे दर्ज हों, लेकिन उनके पारिवारिक इतिहास काफी गौरवशाली रहा है। सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दाखिल करते वक्त मुख्तार अंसारी ने कहा था, 'वो एक ऐसे परिवार का हिस्सा हैं जिसने देश के स्वतंत्रता आंदोलन में अहम भूमिका निभाई है। भारत को मोहम्मद हामिद अंसारी के रूप में उप राष्ट्रपति दिया है। शौकत उल्लाह अंसारी के रूप में ओडिशा को एक राज्यपाल और न्यायमूर्ति‍ आसिफ अंसारी के रूप में इलाहाबाद हाईकोर्ट को एक जज दिया है।  इसी वजह से आज भी गाजीपुर जिले में ही नहीं बल्कि पूर्वांचल के कई जिलों में मुख्तार अंसारी के परिवार का सम्मान कायम है। 

 

मुख्तार अंसारी ने कहां से की थी पढ़ाई?

मुख्तार अंसारी का जन्म 03 जून 1963 को यूपी के गाजीपुर जिले के मुहम्मदाबाद में हुआ था। पिता का नाम सुभानुल्लाह अंसारी और मां का नाम बेगम राबिया था। मुख्तार अपने भाइयों में सबसे छोटा था। मुख्तार अंसारी ने राजकीय शहर इंटर कॉलेज और पीजी कॉलेज से पढ़ाई की थी।  साल 1984 में आर्ट्स से बीए किया था और रामबाग के पीजी कॉलेज से पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की थी। इसके बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय की छात्र राजनीति में कदम रखा और 1996 में बसपा से टिकट पाकर मऊ से चुनाव लड़ा और विधायक बन गया। 

भाई अफजाल अंसारी भी पोस्टग्रेजुएट

मुख्तार अंसारी के बड़े भाई अफजाल अंसारी ने भी गाजीपुर के पीजी कॉलेज से 1976 पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की थी। वे पांच बार विधायक और दो बार सांसद रह चुके हैं। पहली बार बहुजन समाजवादी पार्टी से गाजीपुर निर्वाचन क्षेत्र से सांसद बने। साल 2004 के आम लोकसभा चुनाव में सपा से टिकट मिला और जीत हासिल कर फिर से सांसद बने थे। हालांकि इसके बाद बसपा से टिकट मिला और सांसद बने।

स्वतंत्रता सेनानी, महात्मा गांधी के करीबी और कांग्रेस अध्यक्ष थे मुख्तार अंसारी के दादा

मुख्तार अंसारी के दादा डॉ. मुख्तार अहमद अंसारी ने देश की आजादी में अहम रोल अदा किया था. मुख्तार अहमद अंसारी स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन के दौरान 1926-27 में इंडियन नेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। वो देश के राष्ट्रपित महात्मा गांधी के बेहद करीबी माने जाते थे। 1930 में जब गांधी जी ने नमक पर कर लगाए जाने के विरोध में सत्याग्रह किया था. गाजीपुर का जिला अस्पताल उन्हीं के नाम पर है। इसके अलावा वे देश के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में से एक जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। वे 1928 से 1936 तक इसके चांसलर भी रहे। उन्होंने मद्रास से एमबीबीएस की पढ़ाई की थी और यूके से एमएस और एमडी की डिग्री हासिल की थी। आज भी दिल्ली में उनके नाम पर एक मशहूर इलाके की सड़क का नाम (अंसारी रोड) प्रचलित है। 

नौशेरा युद्ध के नायक थे मुख्तार अंसारी के नाना

शायद कम ही लोग जानते हैं कि महावीर चक्र विजेता ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान अंसारी बाहुबली मुख्तार अंसारी के नाना थे। जिन्होंने 1947 की जंग में न सिर्फ भारतीय सेना की तरफ से नौशेरा की लड़ाई लड़ी बल्कि देश को जीत भी दिलाई। हालांकि, वो खुद इस जंग में हिंदुस्तान के लिए शहीद हो गए थे। उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था।

 

मुख्तार अंसारी के चाचा उपराष्ट्रपति

अंसारी परिवार की इसी विरासत को मुख्तार अंसारी के पिता सुभानअल्लाह अंसारी ने आगे बढ़ाया। कम्युनिस्ट नेता होने के अलावा अपनी साफ सुथरी छवि की वजह से सुभानअल्लाह अंसारी अंसारी को 1971 के नगर पालिका चुनाव में निर्विरोध चुना गया था। इतना ही नहीं भारत के पिछले उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी भी मुख्तार के रिश्ते में चाचा लगते हैं। वो उपराष्ट्रपति से पहले विदेश सेवा में थे और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के वीसी भी रहे हैं। इसके अलावा देश के जाने-माने पत्रकार जावेद अंसारी भी रिश्ते में उनके भाई लगते हैं।

मुख्तार अंसारी के दोनों बेटे इंटरनेशनल खिलाड़ी

एक तरफ जहां सालों की खानदानी विरासत है तो वहीं माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की अगली पीढ़ी देश के लिए मैडल जीतने का काबिल है। मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी शॉट गन शूटिंग के इंटरनेशनल खिलाड़ी हैं। टॉप शूटरों में शुमार अब्बास न सिर्फ नेशनल चैंपियन रह चुके हैं बल्कि दुनियाभर में कई पदक जीतकर देश का नाम रोशन कर चुके हैं।

Leave a Comment

All Rights Reserved © 2024 Town Live News