May 23, 2024

लापरवाही की हद होती है, ओडिशा रेल हादसे में लाशों के बीच पड़ा रहा जिंदा शख्स पढ़े पूरी ख़बर

June 08, 2023
1Min Read
497 Views

ओडिशा में बालासोर ट्रेन हादसे, में लोगों ने मरा समझकर मुर्दाघर में रखा, होश आया तो हाथ हिलाकर बताया- जिंदा हूं,, सरकार का फेलियर सिस्टम लापरवाही की हद हो गई

मृत शरीरों के बीच दबा हुआ 24 साल का विश्वजीत दम तोड़ देता अगर उसका पिता हेला राम 253 किलोमीटर की दूरी तय कर अपने बेटे को ढूंढने बालासोर नहीं आते।

रौंगटे खड़ा कर देने वाला वह खौफनाक मंज़र ठीक प्रधानमंत्री और रेलमंत्री के नाक के निचे उनके द्वारा संचालित व्यवस्था में घटित हो रहा था।

गोदी मीडिया ने कितना मुलम्मा चढ़ाया! कभी रेलमंत्री की डिग्रियां गिनाई तो कभी 51 घंटे की "कड़ी मेहनत"! धूप और गर्मी में पोशाक बदलते और कूलर के इंतजाम के बीच प्रधानमंत्री की उपस्थिति को "महानता" से जोड़ा।

परन्तु,सब बेकार । विश्वजीत और उसके पिता की मार्मिक कहानी ने ढोल में पोल कर दिया ।

Leave a Comment

Related Posts

All Rights Reserved © 2024 Town Live News